सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन क्या होता है ? Secured & Unsecured Loan में क्या अंतर है ?

अक्सर ही जब लोन की बात आती है, तो लोगो के मन में यह सवाल जरूर आता है, कि लोन लेना चाहिए या नहीं, या फिर जितना कम हो सके उतना ही लोन ले | लेकिन कई बार अपनी जरूरतों के लिए लोन जरूरी हो जाता है | सामान्य तौर पर यदि आप घर खरीदने जा रहे है, तो होम लोन आपके लिए एक बेहतर विकल्प होता है | इसके अलावा अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए आप बैंक से पर्सनल लोन भी ले सकते है |

बैंक से लोन का जिक्र होने पर आपको दो तरह के शब्द सुनाई देंगे, जिसमे पहला सिक्योर्ड लोन और दूसरा अनसिक्योर्ड लोन होता है | कोई भी बैंक मुख्य रूप से आपको दो बड़ी कैटेगरी में लोन देता है, जो सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड होता है | किन्तु बहुत से लोगो को इन दोनों ही तरह के लोन के बारे में जानकारी नहीं होती है | इस लेख में हम आपको सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन क्या होता है, तथा Secured & Unsecured Loan में क्या अंतर है, के बारे में सम्पूर्ण जानकारी दे रहे है |

पर्सनल लोन क्या होता है ?

सिक्योर्ड लोन क्या है (Secured Loan)

सिक्योर्ड लोन जैसा कि नाम से ही पता चलता है, यह एक सुरक्षित ऋण होता है | जिसमे बैंक से लोन लेने के लिए व्यक्ति को अपनी किसी संपत्ति को गिरवी रखना होता है | इसमें ऋण लेने वाले कस्टमर को बैंक से ऋण लेते समय हमेशा ही सेक्योरिटी के तौर पर किसी तरह की गारंटी या संपत्ति को बैंक के पास जमा करना होता है | इसे सीधे तौर पर समझे तो यदि आपने बैंक से घर खरीदने के लिए ऋण लिया जाता है, तो आपके मकान के दस्तावेजों पर बैंक का तब तक अधिकार रहेगा जब तक आप बैंक से लिए गए पूरे ऋण को चुका नहीं देते है |

सेक्योर्ड लोन में आप कोलेटरल या सिक्योरटी के लिए वित्तीय या फिजिकल दोनों ही तरह की पूँजी का इस्तेमाल कर सकते है | फिजिकल ऐसेस्ट की सूची में मकान, दुकान, गोल्ड, कार जैसी चीजे शामिल है, वही फाइनेंसियल ऐसेस्ट में म्‍यूचुअल फंड, इक्विटी शेयर, FD, लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी शामिल है |

सेक्योर्ड लोन को ग्राहक की संपत्ति पर जारी किया जाता है, इससे बैंक को अपने पैसो के सुरक्षित होने का भरोसा हो जाता है | इस दौरान यदि आप बैंक से लिए गए ऋण को नहीं चुकाते है, तो बैंक आपकी संपत्ति को बेचकर अपने पैसो की वसूली कर लेता है | जिस वजह से यह एक सुरक्षित ऋण (Secured Loan) कहलाता है |

असुरक्षित ऋण क्या है (Unsecured Loan)

अनसिक्योर्ड ऋण जिसे असुरक्षित ऋण कहते है | जब बैंक बिना किसी गारंटी के ही अपने ग्राहक को ऋण दे देता है, तो उसे अनसेक्योर्ड लोन कहते है | इस तरह के लोन में ऋण लेने वाले व्यक्ति को किसी तरह कि गारंटी या कोलेटरल नहीं देना होता है | बैंक अनसिक्योर्ड लोन को ग्राहक के क्रेडिट हिस्ट्री और क्रेडिट स्कोर के आधार पर जारी किया जाता है | बैंक जिस ग्राहक को ऋण देने वाला होता है, उसका इनकम सोर्स, रिपेमेंट हिस्ट्री, इनकम टैक्‍स रिटर्न और 6 माह की सैलरी स्लिप को देखता है | जिसके आधार पर ही लोन की मंजूरी दी जाती है | अनसिक्योर्ड लोन में सुरक्षित लोन की तुलना में ब्याज का प्रतिशत अधिक होता है, तथा उन्हें लोन चुकाने के लिए समय भी कम मिलता है |

अनसिक्योर्ड लोन की सूची में पर्सनल लोन, क्रेडिट कार्ड लोन, इंस्टेंट लोन, एजुकेशन लोन और बिजनेस लोन शामिल है | अनसेक्‍योर्ड लोन को बैंक अपने ग्राहक को असुरक्षित ऋण के रूप में देती है, क्योकि इसमें बैंक अपने कस्टमर से ऋण देने के बदले में किसी तरह की गारंटी नहीं लेता है | इस दौरान यदि ऋण लेने वाला बैंक से लिए ऋण को नहीं चुका पाता है, तो इस स्तिथि में बैंक को नुकसान उठाना पड़ता है, तथा इस तरह के मामले अक्सर कोर्ट में शामिल हो जाते है, साथ ही उस व्यक्ति का सिबिल स्कोर ख़राब हो जाता है, जिससे भविष्य में उसे ऋण लेने में काफी दिक्कत हो सकती है |

सिक्योर्ड लोन लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज (Secured Loan Documents Required)

  • पहचान प्रमाण के लिए :- पैन कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस में से कोई एक डॉक्यूमेंट जरूरी |
  • आयु प्रमाण के लिए :- जन्म प्रमाणपत्र, 10वीं कक्षा की मार्कशीट, ड्राइविंग लाइसेंस या बैंक पासबुक |
  • निवास प्रमाण के लिए :- राशन कार्ड, बैंक पासबुक, एलआईसी पॉलिसी की रसीद, पासपोर्ट या उपयोगिता बिल (पानी बिल, बिजली बिल, टेलीफोन बिल, गैस बिल)|
  • आय प्रमाण के लिए (Income Proof)
    • नौकरी पेशा करने वाले व्यक्ति के लिए :- 2 माह पुरानी पैन स्लिप, 3 वर्ष का ITR (Income Tax Return), फॉर्म 16, नियोक्ता/ कंपनी से प्राप्त सर्टिफाइड लैटर, इंक्रीमेंट या प्रमोशन लैटर,
    • गैर- नौकरीपेशा/ स्वरोजगार वाले व्यक्तियों के लिए :- 3 वर्ष का आयकर रिटर्न, C.A. द्वारा प्रमाणित कंपनी या फार्म का लाभ व् हानि का विवरण और बैलेंस शीट, डॉक्टर्स व् सलाहकारों के लिए प्रोफेशनल प्रैक्टिस का प्रमाण, व्यापारिक प्रमाण की जानकारी, व्यापार स्थापित का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट |
  • संपत्ति प्रमाण के लिए :- अलॉटमेंट लैटर/ बायर एग्रीमेंट, संपत्ति के उल्लंघित न होने का प्रमाण, नया घर होने की स्थिति में डेवलपर को की गयी भुगतान की रसीद, पिछली पॉपर्टी के सभी दस्तावेज, सेल एग्रीमेंट की कॉपी, विक्रेता को किए गए भुगतान की रसीद के अलावा अन्य जरूरी दस्तावेजो को भी लगाया जा सकता है |
  • पासपोर्ट आकार का फोटो |

Bank of Baroda (BOB) से लोन कैसे प्राप्त करे ?

अनसिक्योर्ड लोन लेने के लिए जरूरी दस्तावेज व् पात्रता (Unsecured Loan Required Documents and Eligibility)

  • आधार कार्ड (Aadhar Card)
  • ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License)
  • वोटर आईडी |
  • पासपोर्ट (Passport)
  • पैन कार्ड (Pan Card)
  • जन्म प्रमाण पत्र (Birth Certificate)
  • निवास प्रमाण पत्र (Residence Certificate)
  • दो माह की सैलरी स्लिप |
  • कर्मचारी का ID कार्ड |
  • आवेदक की आयु 21 से 67 वर्ष के मध्य होनी चाहिए |
  • शहरीय क्षेत्र में रहने वाले आवेदक का वेतन 22,000 या उससे अधिक होना चाहिए |
  • आवेदक का सिबिल स्कोर 750 या उससे अधिक हो |

सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन में अन्तर (Secured Loan And Unsecured Loans Difference)

क्रं. सं.सिक्योर्ड लोन अनसिक्योर्ड लोन
1.इसमें ब्याज दर काफी कम होती है |इसमें ब्याज दर काफी अधिक होती है |
2.सिक्योर्ड लोन को मंजूर होने में अधिक समय लग जाता है, क्योकि इसमें गिरवी रखी गयी चीज का बैंक द्वारा मूल्यांकन किया जाता है |चूंकि अनसिक्योर्ड लोन में ग्राहक को ऋण लेने के लिए किसी तरह की सुरक्षा नहीं देनी होती है, इसलिए इसमें लोन कम समय में मंजूर हो जाता है |
3.यदि आपका क्रेडिट स्कोर कम है, फिर भी आपको सिक्योर्ड लोन आसानी से मिल जाता है |इसमें आपका सिबिल स्‍कोर अच्छा होना जरूरी होता है |
4.सिक्योर्ड लोन की राशि कोलेटरल प्रॉपर्टी की वैल्यू पर निर्भर करती है |अनसिक्योर्ड लोन में ऋण की राशि ग्राहक की इनकम और रिपेमेंट कैपेसिटी पर तय की जाती है |
5.सिक्योर्ड लोन में ग्राहक को ऋण चुकाने के लिए अधिक समय मिल जाता है |अनसिक्योर्ड लोन में ग्राहक को ऋण का भुगतान कम समय में करना होता है |

सिक्योर्ड लोन के लिए आवेदन कैसे करे (Secured Loan Apply Process)

  • सिक्योर्ड लोन लेने के लिए सबसे पहले आप उस बैंक में जाये जिस बैंक के आप मौजूदा ग्राहक है |
  • इसके बाद आपको बैंक के अधिकारी से संपर्क करना होता है, और सेक्योर्ड लोन से संबंधित जानकारी प्राप्त कर ले |
  • इसके बाद आप बैंक के अधिकारी को यह बताएं की आप किस तरह का और कितना ऋण लेना चाहते है |
  • आपकी ऋण राशि को जानकर अधिकारी द्वारा उस ऋण को पास करने के लिए आपसे संपत्ति का विवरण लिया जाता है |
  • यदि बैंक अधिकारी आपके द्वारा मांगी गयी राशि को आपकी संपत्ति के अनुरूप समझता है, तो आपको बैंक द्वारा ऋण आवेदन के लिए आवेदन पत्र दे दिया जाता है |
  • इस आवेदन पत्र में पूछी गयी सभी जानकारियों को ठीक – ठीक भरना होता है |
  • इसके बाद आपको आय, संपत्ति, निवास से संबंधित सभी दस्तावेजों की प्रतिलिपि को फॉर्म के साथ संलग्न करना होता है |
  • इसके बाद इस फॉर्म को आप बैंक अधिकारी के पास जमा कर दे |
  • बैंक अधिकारी द्वारा आपके दस्तावेजों की ठीक तरह से जांच की जाती है, जिसमे काफी समय लग जाता है |
  • सभी तरह की पुष्टि करने के पश्चात् आपके ऋण को मंजूर कर लिया जाता है, और ऋण राशि आपके खाते में भेज दी जाती है |

अनसिक्योर्ड लोन के लिए आवेदन कैसे करे (Unsecured Loan Apply Process)

  • अनसिक्योर्ड लोन के लिए सबसे पहले आप अपने बैंक की नजदीकी शाखा में जाए |
  • इसके बाद आप बैंक के कर्मचारी से असुरक्षित ऋण लेने के लिए जानकारी ले |
  • सभी नियमो व शर्तो को जानने के बाद आप ऋण आवेदन का फॉर्म प्राप्त कर ले |
  • इस फॉर्म में आप सभी जानकारियों को ठीक तरह से भर ले, और संबंधित दस्तावेजों की प्रतिलिपि को फॉर्म के अटैच कर दे |
  • बैंक अधिकारी के पास आवेदन फॉर्म जमा कर दे |
  • फॉर्म को ठीक तरह से जांचने के पश्चात् आपके ऋण आवेदन को स्वीकार कर लिया जाता है |
  • ऋण की स्वीकृति के पश्चात आपके खाते में ऋण की राशि को भेज दिया जाता है |

South Indian Bank (SIB) से लोन कैसे प्राप्त करे ?