सिबिल स्कोर क्या होता है | Online Free में सिबिल स्कोर कैसे चेक करते है ?

आपने भी कभी ना कभी सिबिल स्कोर का नाम जरूर सुना होगा और आपके दिमाग में यह बात जरूर आता होगा कि आखिरी यह सिबिल स्कोर होता क्या है। भारत में ऐसे कई लोग हैं जिन्हें नया घर, गाड़ी या कोई कोई इलेक्ट्रॉनिक आइटम खरीदना होता है या फिर उन्हें नया बिजनेस शुरू करना होता है और उनके पास इतने ज्यादा पैसे नहीं होते हैं कि वह अपने शौक को पूरा कर सके तो फिर उनके दिमाग में लोन लेने का सुझाव आता है।

पर जब भी आप बैंक या किसी लोन देने वाले कंपनी से लोन लेते हैं तो आपको वह लोन आपके सिबिल स्कोर के आधार पर ही लोन मुहैया करते हैं। परंतु वास्तव में सिबिल स्कोर का लोन से क्या संबंध है? आज हम सिबिल स्कोर (CIBIL Score) क्या हैं और इसे कैसे चेक किया जाता हैं? इसके बारे में विस्तार से जानेंगे।

एलआईसी से लोन कैसे ले

सिबिल स्कोर क्या होता हैं?

सिबिल स्कोर (CIBIL Score) 3 अंकों की एक संख्या होती है, जिसे देखकर यह निर्धारित किया जाता है कि किसी भी इंसान को लोन दिया जाना चाहिए या नहीं दिया जाना चाहिए। सिबिल स्कोर मे आपके पिछले 6 महीने की पूरी फाइनेंशियल रिपोर्ट रिकॉर्डेड रहती है। अगर आपने पहले कभी लोन लिया था और उसका पेमेंट आपने सही समय पर कर दिया था तो आपका सिबिल स्कोर अच्छा रहेगा। 

वहीं अगर आपने लोन का पेमेंट सही ढंग से नहीं किया हो तो आपको दोबारा लोन मिलने में दिक्कत हो सकती है क्योंकि आपका सिबिल स्कोर कम रहेगा। अगर आपका सिबिल स्कोर 750 से ऊपर रहता है तो आपको आसानी से एक बड़े अमाउंट का लोन मिल सकता है।

ध्यान दें हर व्यक्ति के वित्तीय रिकॉर्ड के आधार पर सिबिल स्कोर अलग अलग हो सकता है।

सिबिल स्कोर कैसे निर्धारित किया जाता हैं?

जैसा कि आप जानते है कि कोई भी कंपनी या बैंक आपको लोन देने से पहले आपके सिबिल स्कोर को चेक करती हैं। पर सबसे मुख्य बात आती है कि आखिर किसी इंसान का सिबिल स्कोर कैसे निर्धारित किया जाता है। आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि आपका सिबिल स्कोर चार फैक्टर्स पर निर्धारित होता हैं। आइए जानते हैं कि वह 4 फैक्टर्स कौन-कौन से हैं –

आपके पेमेंट की हिस्ट्री

आपके सिबिल स्कोर के निर्धारण में पेमेंट हिस्ट्री का बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका रहता है। अगर आपका पेमेंट हिस्ट्री बहुत हीं खराब है तो वह आपके सिबिल स्कोर को खराब कर सकता है वहीं अगर आपने अपने सारे लोन एवं क्रेडिट कार्ड के बिल सही टाइम पर पेमेंट किए हैं तो यह आपके सिबिल स्कोर को बढ़ाने में मदद करेगा। इसलिए हर दम प्रयास करें कि आप अपने सभी बिल्स का पेमेंट सही समय पर कर दें ताकि आपका सिबिल स्कोर 750 के ऊपर बना रहे। अगर आप अपने लोन और बिल्स के पेमेंट को करने में 30 दिन की देरी करते हैं तो आपका सिबिल स्कोर 100 पॉइंट घट जाएगा।

Credit Exposure

बता दें कि आपके लोन लेने की लिमिट को ही क्रेडिट एक्स्पोज़र कहा जाता है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि जितने आपके क्रेडिट कार्ड का लिमिट हो आपको उस लिमिट का सिर्फ 30% पैसा ही यूज करना चाहिए। अगर आप पूरे पैसे यूज कर जाते हैं तो आपका क्रेडिट एक्सपोजर यह दिखाएगा कि आप आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं या फिर लोन लेना आपकी आदत बन गई हैं।

स्मॉल फाइनेंस बैंक क्या है 

क्रेडिट के प्रकार और अवधि

आपका क्रेडिट हिस्ट्री यह दिखाता है कि आप लिए गए लोन को अच्छे तरीके से हैंडल कर लेते हैं। अगर आपने बहुत साल पहले ही लोन लिया है और उसका पेमेंट सही टाइम पर कर दिया है तो इससे आपके सिबिल स्कोर पर एक बहुत ही बढ़िया प्रभाव पड़ेगा। इसलिए कोशिश करें कि आप जब भी नई गाड़ी या नया घर लेने की सोच रहे हो तो उसे लोन पर ले ताकि आप का क्रेडिट स्कोर बढ़िया बन जाए। लगातार लंबे अवधि के लिए लोन लेते रहना और उसकी पेमेंट सही समय पर करते रहना भी आपके सिबिल स्कोर को 900 तक बूस्ट कर सकता है।

Other factors

जैसा कि हमने बताया कि कभी भी लोन लेते वक्त या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करते वक्त प्रोवाइडर्स आपके सिबिल स्कोर को क्रेडिट ब्यूरो के द्वारा निकालते हैं। आप जितनी बार अपना सिबिल स्कोर चेक करेंगे उतनी बार क्रेडिट ब्यूरो आपके इस इंट्री को दर्ज करते रहेंगे। इससे आपके सिबिल स्कोर पर बहुत ही बुरा प्रभाव देखने को मिलेगा और लोन देने वालो को यह प्रतीत होगा कि आप बार-बार लोन के लिए अप्लाई करते रहते हो। इसलिए ज़रूरत से ज्यादा लोन के लिए अप्लाई ना करें।

सिबिल स्कोर कैसे काम करता हैं?

आप जब भी अपने लोन का रिपेमेंट अथवा अपने क्रेडिट कार्ड का बिल भरते हैं तो आपका बैंक सारी डिटेल्स को जमा करता है और बाद में इन्ही सारी डिटेल्स को मिलाकर आपका सिबिल स्कोर बनाया जाता है। इसी सिबिल स्कोर पर आगे जाकर आपको लोन प्रोवाइड होता है। इसलिए जब भी कभी आप लोन के लिए आवेदन करते हैं तो सबसे पहले आप का सिबिल स्कोर चेक किया जाता है। अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा ही नहीं रहेगा तो लोन देने वाला आपको कभी भी लोन नहीं देगा पर जब आपका सिबिल स्कोर अच्छा रहेगा तो ज्यादा चांस है कि वह आपको लोन अवश्य देंगे।

अब जब आपको पूरी तरह से आईडिया लग गया है कि सिबिल स्कोर क्या होता है तो आपका यह भी जानना जरूरी है कि आपका सिबिल स्कोर जितना ज्यादा होगा आपकी लोन मिलने की संभावना उतनी ही ज्यादा होगी। अगर आपका सिबिल स्कोर 750 से 900 के बीच है तो यह अच्छा माना जाता है। और इतना बढ़िया सिबिल स्कोर देखकर कोई भी बैंक या वित्तीय कंपनियां आपको आसानी से लोन प्रोवाइड कर देगी। पर अगर आपका सिबिल स्कोर 750 से कम है तो शायद कोई बैंक या वित्तीय कंपनियां आपको लोन देने में आनाकानी करे।

फ्री में सिबिल स्कोर कैसे चेक करें ?

आप अपना सिबिल स्कोर चेक करने के लिए सिबिल वेबसाइट का मदद ले सकते हैं। जैसा कि सिबिल की वेबसाइट पर सिबिल स्कोर चेक करना थोड़ा हार्ड है और एक आदमी जो इंटरनेट काम चलाता हो वह इसे नहीं कर पाएगा, इसलिए आप सभी लोग सिबिल वेबसाइट के अलावा बैंकिंग एग्रीगेटर के वेबसाइट पर भी अपना सिबिल स्कोर चेक कर सकते हैं। 

मगर आपको घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि हमने यहां पर स्टेप-टू-स्टेप सिबिल वेबसाइट से सिबिल स्कोर चेक करने की गाइड नीचे दे दी है। सिबिल की वेबसाइट पर अपना सिबिल स्कोर चेक करने का एक फायदा यह है कि आपको अपना सिबिल स्कोर फ्री में देखने को मिल जाएगा। आइए देखते हैं कि सिबिल के वेबसाइट पर सिबिल स्कोर को कैसे चेक किया जा सकता है।

  1. सबसे पहले सिबिल की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है जो कि https://www.cibil.com/ हैं।
  2. खुल जाने के बाद आपको दाहिनी ओर सबसे टॉप पर Get Your Cibil Score पर टच करना हैं।
  3. आप इसे टच करेंगे तो सिबिल आपको सब्सक्रिप्शन वाले पेज पर ले जाएगा पर वहां पर आपको Free Check ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  4. बाद आपसे आपका अकाउंट क्रिएट करने को बोला जाएगा।
  5. अकाउंट बनाने के लिए आपको अपना नाम, ईमेल आईडी, पासवर्ड, आईडी प्रूफ (जैसे पैन कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट नंबर, आधार), जन्‍मतिथि, पिन कोड और मोबाइल नंबर डालना होगा |
  6. स्टेप में आपको अपना वेरिफिकेशन देना होगा। इसके लिए सिबिल आपके मोबाइल पर एक ओटीपी भेजेगा और वह ओटीपी आपको वहां पर दर्ज करना होगा।
  7. सभी स्टेप्स के बाद आपको दिखेगा कि आप उनके सर्विस में इनरोल हो गए हैं और आपको वह लोग नेक्स्ट स्टेप में ले जाएंगे। नेक्स्ट स्टेप मे आपको एक ईमेल भेजा जाएगा।
  8. अपना सिबिल स्कोर चेक करने के लिए आपको Go To Dashboard पर क्लिक करना है।
  9. ही आप Go To Dashboard पर टच करिएगा तो आपको एक नए वेबसाइट पर रेफर किया जाएगा और वहां पर आपको अपना सिबिल स्कोर लिखा हुआ दिख जाएगा।

हमारी सलाह रहेगी कि आप उस सिबिल स्कोर को फाइल के रूप में अपने कंप्यूटर में डाउनलोड कर ले ताकि आप जब भी कभी लोन लेने जाए तो उन्हें वह सिबिल स्कोर दिखा सके। उसी साल अगर आप अपना सिबिल स्कोर दोबारा चेक करना चाहते हैं तो आपको पेड प्लान सब्सक्राइब करना होगा जिसके तहत आप साल में एक से ज्यादा बार अपना सिबिल स्कोर चेक कर सकते हैं।

FAQs

क्या सिबिल स्कोर चेक करने के लिए हमें पैसे देने पड़ते हैं?

आमतौर पर सिबिल स्कोर चेक करने के लिए हमें पैसे देने पड़ते हैं, मगर हमने जो स्टेप्स ऊपर बताया है उसे यूज कर के आप साल में एक बार अपना सिबिल स्कोर फ्री में चेक कर सकते हैं।

सिबिल स्कोर कितने अंको का होता हैं?

सिबिल स्कोर तीन अंको का होता हैं। यह स्कोर 300 से 900 के बीच हो सकता हैं।

कितने सिबिल स्कोर को अच्छा माना जाता है?

अगर किसी का सिबिल स्कोर 750 से ऊपर है तो यह अच्छा माना जाता हैं।

पेटीएम से लोन कैसे लें