बैंक चेक (Cheque) कैसे भरे ? अकाउंट पे व सेल्फ चेक भरने का तरीका [Image]

जब भी हम किसी तरह का लेन-देन करते है, तो उसके लिए नकदी का इस्तेमाल किया जाता है,किन्तु आज के समय में लेन-देन के कार्य को पूरा करने के लिए कई तरीको को अपनाया जाने लगा है | जिसमे लोग ऑनलाइन ट्रांजेक्शन या चेक को अधिक महत्त्व दे रहे है | जिसके लिए NEFT, Online Fund Transfer चेक का इस्तेमाल किया जा रहा है | कैश के रूप में लेन-देन करने में आपको कई तरह की समस्याओ का सामना करना पड़ सकता है, वही चेक के माध्यम से इन कार्यो को करने में काफी आसानी और सुरक्षा होती है | जिस वजह से चेक ट्रांजेक्शन करने का एक बेहतर विकल्प है | कई सुरक्षा कारणों की वजह से सरकार भी चेक के माध्यम से ही लेन-देन करने की सलाह देती है |

इससे पहले जब आप बैंक में खाता खुलवाते थे, तो आपको चेक के लिए अलग से आवेदन करना होता था, किन्तु वर्तमान समय में ज्यादातर बैंक नए खाते के साथ चेक अनिवार्य रूप से प्रदान कर रही है | लेकिन आज भी बहुत से लोग ऐसे है, जिन्हे चेक का इस्तेमाल करना नहीं आता है, या उन्होंने कभी चेक के जरिये लेन-देन नहीं किया होता है | ऐसे में उन्हें चेक भरने में थोड़ी दिक्कत और झिझक होती है | आपकी इसी समस्या को दूर करने के लिए इस लेख में आपको बैंक चेक (Cheque) कैसे भरे और अकाउंट पे व सेल्फ चेक भरने का तरीका क्या है, के बारे में पूरी जानकारी दे रहे है |

Open SBI Account Online

बैंक चेक (Bank Check) क्या है

जब भी आप किसी बैंक में अपना खाता खुलवाते है, तो आपको बैंक की सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए बैंक द्वारा पासबुक, ATM और चेक प्रदान की जाती है | जिसमे आप चेक का इस्तेमाल पैसो का लेन-देन करने के लिए कर सकते है | यह बहुत ही सुरक्षित और सरल तरीका होता है | चेक बुक के पेज में खाताधारक की सभी जानकारी मौजूद होती है | इसमें केवल आपको नाम, धनराशि और तारीख को भरना होता है | इसके अलावा खाताधारक को अपने साइन करने होते है | लेकिन चेक भरते समय गलती हो जाने पर आपको कई समस्याए हो सकती है | इसलिए आपको चेक भरने का सही तरीका अवश्य आना चाहिए |

चेक के प्रकार (Check Type)

चेक का इस्तेमाल करने से पहले आप यह जरूर जान ले कि चेक कितने प्रकार के होते है| इसमें अलग-अलग कार्य के लिए भिन्न-भिन्न चेक का इस्तेमाल किया जाता है, जो इस प्रकार है:-

  • वाहक चेक (Bearer Cheque) :- इस तरह के चेक का इस्तेमाल सामान्य लेन-देन के लिए करते है | इसे किसी विशिष्ट व्यक्ति के नाम पर बनाया जाता है| जिसमे चेक का भुगतान आसानी से कैश काउंटर से हो जाता है |
  • खाता प्राप्तकर्ता (Account Payee) :- इस तरह की चेक को धनराशि के भुगतान में अधिक सुरक्षित रूप से देखा जाता है | इसमें चेक के ऊपरी हिस्से में कोने पर दो तिरछी लाइनों के मध्य A/c Payee लिखा जाता है | जिसके बाद यह चेक खाता प्राप्तकर्ता हो जाती है |
  • रेखित चेक (Crossed Cheque) :- इस चेक का उपयोग केवल खाते में भुगतान के लिए किया जाता है | इसे सामान्य लेन-देन के लिए इस्तेमाल नहीं कर सकते है| इस तरह की चेक के ऊपरी कोने में दो सामान लाइने बना दी जाती है |
  • आदेश चेक (Order Cheque) :- इस तरह की चेक का भुगतान केवल उपभोक्ता के आईडी नंबर और हस्ताक्षर के आधार पर ही होता है | इसमें जब कोई व्यक्ति किसी विशेष व्यक्ति या उसके आदेश हेतु चेक देता है, तो इस स्थिति में यह एक आदेश चेक कहलाता है |
  • कैंसल चेक(Cancle Chek):- यह चेक बिल्कुल नार्मल चेक की तरह ही होता है| इसमें केवल आपको पेन से दो समान्तर लाइन को खींच कर उसके मध्य CANCELLED लिखना होता है | कैंसल्ड चेक का अर्थ होता है, चेक रद्द किया हुआ | इस चेक से किसी तरह का ट्रांजेक्शन नहीं कर सकते है | यह चेक केवल बैंक डिटेल्स को वेरीफाई करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है |

चेक पर लिखी हुई जानकारी (Check Information)

बैंक चेक में कई तरह महत्वपूर्ण जानकारिया मौजूद होती है | चेक में बैंक के ब्रांच के पते की जानकारी के लिए चेक के ऊपरी हिस्से पर IFSC Code दर्ज होता है | इसके अलावा खाताधारक की खाता संख्या दर्ज होती है, और चेक की निचले हिस्से में चेक संख्या लिखी होती है | यह संख्या 23 अंक तक होती है | यह सभी नंबर अलग-अलग भागो में लिखे होते है | इसमें आरम्भ में लिखे 6 नंबर चेक नंबर होते है, तथा उसके बाद लिखे 9 नंबर MICR (Magnetic Ink Character Recognition) कोड होता है | यह 9 अंक तीन भागो में बंटे होकर अलग-अलग जानकारी को दर्शाते है | जिसमे पहले के तीन अंक बैंक किस जगह पर है, की जानकारी देते है, तथा बाद वाले 3 अंक बैंक के नाम की जानकारी देते है, और अंतिम में लिखे 3 अंक मशीन के कोड होते है, जिसमे बैंक के ब्रांच की जानकारी होती है |

MICR कोड के पश्चात् चेक में 6 नंबर और लिखे होते है, जो कि खाते का ID कोड होता है | इस आईडी कोड के माध्यम से खाते की जानकारी प्राप्त की जाती है | इन सब संख्याओं के बाद सबसे आखरी में 2 अंक दर्ज होते है, जो ट्रांजेक्शन आईडी होती है | जिससे चेक बुक के स्थान का पता चलता है |

अकाउंट पे व सेल्फ चेक भरने का तरीका (Pay and Self Check Fill Process)

  • चेक को ठीक तरह से भरा जा सके इसके लिए आपको कुछ विकल्प बताए जा रहे है, जिसकी जानकारी प्राप्त कर आप चेक आसानी से भर सकते है |
  • चेक भरने के लिए सबसे पहले आपको PAY वाले विकल्प के सामने उस व्यक्ति का नाम लिखना होता है, जिसे आप चेक दे रहे होते है |
  • व्यक्ति का नाम बिल्कुल वैसा ही लिखे जैसा बैंक में लिखा हो |
  • इसके बाद आपको चेक में RUPEES का विकल्प दिखाई देगा, इसमें आपको उस धनराशि को शब्दों में भरना होता है, जितनी धनराशि आप उस व्यक्ति को देना चाहते है |
  • धनराशि को लिखने के बाद मात्र/ONLY जरूर लिख दे, ताकि बाद में किसी व्यक्ति द्वारा लिखी धनराशि से छेड़छाड़ न की जा सके |
  • इसके बाद धनराशि भरने वाले विकल्प के बगल में एक बॉक्स मिलेगा, जिसमे आपको यही धनराशि अंको में भरनी होती है |
  • अंको की धनराशि भरने के बाद सीधी लाइन खींच दे, ताकि बाद में इसमें छेड़छाड़ न की जा सके |
  • इसके बाद आपको Signature या Authorized लिखा हुआ दिखाई देगा, जिसके ऊपर आपको अपने हस्ताक्षर करने होते है |
  • चेक और बैंक में किए गए हस्ताक्षर बिल्कुल एक जैसे होने चाहिए |
  • इन सब जानकारियों को भरने के बाद आपको ऊपर दिए बॉक्स में तारीख लिखनी होती है, और चेक को बैंक कर्मचारी को देना होता है |
  • इस तरह से आप चेक को आसानी से भर सकते है |
  • यदि आप इस चेक को अकाउंट पे के रूप में देना चाहते है, तो उसके लिए बस आपको PAY विकल्प के ऊपर खाली जगह पर दो तिरछी लाइन खींच कर लाइन के मध्य में A/c Payee लिख दे |

सिबिल स्कोर क्या होता है 

कैंसल चेक कैसे भरे (Canceled Check Fill Process)

  • यदि आप कैंसल चेक भरना चाहते है, तो उसके लिए आप एक नई चेक ले और उसके एक कोने से दूसरे कोने तक दो तिरछी लाइन खींच दे | खींची गई दोनों ही लाइने सामान होनी चाहिए, तथा दोनों लाइन के मध्य थोड़ी जगह होनी चाहिए |
  • इन दोनों लाइनों के मध्य में आपको CANCELLED शब्द लिख दे |
  • इस तरह से आपका कैंसल चेक बनकर तैयार हो जाता है |
  • इस तरह की चेक में आपको बस इतना ही करना होता है, इसके अतिरिक्त आपको कोई और जानकारी नहीं देनी होती है, और न ही अपने हस्ताक्षर करने होते है |

चेक भरते समय सावधानियां (Filling Check Precautions)

  • चेक भरते समय इस बात का विशेष ध्यान दे कि आप जिस व्यक्ति के लिए चेक भर रहे है, उसका वही नाम लिखे जो उसके बैंक खाते में लिखा हो |
  • लाभार्थी का नाम लिखते समय नाम के आगे खाली जगह बिल्कुल न छोड़े, इससे आपकी चेक का गलत फायदा उठाया जा सकता है |
  • धोखेबाजी से बचने के लिए आप उस व्यक्ति का खाता संख्या भी लिख सकते है |
  • शब्दों में धनराशि लिखते समय आगे Only अवश्य लिखे, ताकि कोई व्यक्ति आगे और शब्द बढ़ाकर चेक में बदलाव न कर सके |
  • अंको में धनराशि को भरते समय भी आपको इस बात का ध्यान रखना होता है, की लिखे गए अंक के बाद एक लाइन खींच दे ताकि और अंको को न बढ़ाया जा सके |
  • आपके जो हस्ताक्षर बैंक में दर्ज है, वही हस्ताक्षर चेक में करे |
  • A/c Payee चेक में आपको चेक के ऊपर दो तिरछी लाइन के बीज में A/c Payee लिखना होता है |
  • इस तरह की चेक से पैसा केवल उस व्यक्ति के खाते में ही जा सकता है, जिसका नाम चेक में लिखा होगा |
  • किसी वजह से चेक में गलती हो जाने पर उसे ऐसे ही न फेके बल्कि उसे पूरी तरह से फाड़कर नष्ट कर दे, जिससे आपकी चेक का कोई गलत फायदा न उठा सके |

आरटीजीएस क्या होता है