बैंक में कितना पैसा रख सकते है ? Bank Cash Limit [Hindi]

आज के समय में देश के तक़रीबन अधिकतर लोगों का बैंक में खाता है | पहले के समय में बहुत ही कम लोगों का बैंक में खाता हुआ करता था, किन्तु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी देश के नागरिको के वित्तीय समावेशन के लिए जनधन योजना का शुभारंभ कर चुके है | इस योजना के अंतर्गत खोले गए खाते भी बचत खाते है | बहुत से लोग है, जिनमे इस तरह के खाते को लेकर भ्रम बना रहता है, कि इसमें कितना पैसा जमा कर सकते है | यहाँ पर आपको बता रहे है, कि सभी बैंक आपको बचत खाते के माध्यम से जरूरत के समय काम आने के लिए पैसा जमा करने की सुविधा देती है |

इसके अलावा भी आप अन्य प्रकार के बचत खाते जैसे :- सुकन्या समृद्धि योजना, पीपीएफ, एफडी, आरडी, वरिष्ठ नागरिक बचत योजना और एनएससी खाता है, जिसे आप खुलवा सकते है, इसमें आपको उसका पैसा भी बचत खाते में वापस मिल जाता है | किसी भी तरह का खाता खुलवाने वाले लोगों के मन में अक्सर यह सवाल होता है, कि वह अपने खाते में कितना पैसा जमा कर सकते है | यहाँ पर आपको बैंक में कितना पैसा रख सकते है (Bank Cash Limit [Hindi]) के बारे में जानकारी दी जा रही है |

बैंक खाते कितने प्रकार के होते हैं ? 

बैंक में कितना पैसा रख सकते है (Bank Account Cash Limit)

किसी भी तरह की बैंक में सामान्य बचत खाते में पैसे जमा करने के लिए किसी तरह की अधिकतम लिमिट नहीं रखी गयी है | इसका मतलब यह है, कि आप अपने बचत खाते में जितना चाहे उतना पैसा रख सकते है | इसके साथ ही आप अपने नाम पर कई बचत खाते खुलवा सकते है |

किन्तु  कोर बैंकिंग सिस्टम वाले अधिकतर बैंक, अपने एक ग्राहक को केवल एक बचत खाता खोलने की अनुमति देता है | लेकिन कुछ बैंक अभी भी ऐसे है, जिसमे आप अपने कई बचत खाते रख सकते है, साथ ही किसी भी सेविंग अकॉउंट में अपनी इच्छानुसार जितना चाहे पैसा जमा कर सकते है |

नकदी जमा करने की लिमिट (Bank Cash Limit)

कोरोना महामारी के दौरान डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा देने और संक्रमण महामारी की रोकथाम के लिए कई बैंको ने अपने ग्राहकों के लिए बैंक शाखा या ATM द्वारा नकदी जमा (Cash Deposit) या नकदी निकालने (Cash Withdrawal) के लिए सीमा तय कर दी है | भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी एक सूचना के अनुसार अब बचत खाते में एक बार में सिर्फ एक लाख रूपए की राशि जमा करने के लिए अनुमति दी गयी है | एक पूरे वर्ष में आप केवल 10 लाख रूपए तक कैश ही डिपाजिट कर सकते है | नकदी जमा करने के लिए आप ATM ट्रांसफर, ऑनलाइन ट्रांसफर या मोबाइल एप ट्रांसफर का इस्तेमाल कर सकते है |

बेसिक बचत खाते में पैसा रखने की लिमिट (Basic Savings Account Cash Limit)

कुछ बैंक ऐसी है, जो खास श्रेणी के लोगों के लिए KYC दस्तावेजों में राहत देते हुए, आसानी से सेविंग अकॉउंट खुलवाने की सुविधा देती है | इसमें अधिकतम जमा और अधिकतम निकासी की सीमा रखी जाती है |

  • इस तरह के खाते में आप एक वर्ष में सिर्फ एक लाख रूपए ही जमा कर सकते है |
  • किसी एक समय बिंदु में आप अपने खाते में 50 हज़ार से अधिक बैलेंस नहीं रख सकते है |
  • एक महीने में केवल 10 हज़ार रूपए की निकासी की जा सकती है |
  • एक महीने में 10 हज़ार रूपए से अधिक ट्रांसफर नहीं किए जा सकते है |
  • इस तरह के स्माल सेविंग अकॉउंट में विदेशी पैसा नहीं जमा किया जा सकता है |

इस तरह का स्माल सेविंग अकॉउंट पहले सिर्फ एक वर्ष के लिए मान्य होता है | इसके बाद पहचान संबंधित मान्य डॉक्यूमेंट जमा करके एक वर्ष की अवधि बढ़ाई जा सकती है | इसके बाद आपको कंप्लीट KYC जमा कर अपने खाते को सामान्य सेविंग अकॉउंट में बदलना होता है |

बच्चो के लिय खोला गया सेविंग अकॉउंट (Children Savings Account)

बच्चो के लिए खुलने वाला अकॉउंट Minors Account होता है, जिसमे भी अधिकतम जमा और निकासी की सीमा रखी जाती है| स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) में 10 वर्ष से अधिक आयु वाले नाबालिग बच्चे अपने लिए Minor Account खुलवा सकते है | लेकिन वह स्वयं के हस्ताक्षर कर अपने अकॉउंट का संचालन करने में सक्षम हो | इस तरह के अकॉउंट में 10 लाख रूपए का बैलेंस रखा जा सकता है |

यदि वह हस्ताक्षर के माध्यम से अकॉउंट का संचालन करने में सक्षम नहीं है, तो इस स्थिति में बच्चे का अकॉउंट अभिभावक के साथ Minor Account के रूप में खुलवा सकते है | जिसके बाद इस तरह के खाते में 20 लाख रूपए रखे जा सकते है |

दस हज़ार से अधिक ब्याज पर कटता है, टीडीएस (Interest Above Ten Thousand Deduction TDS)

यदि किसी व्यक्ति की आयु 60 वर्ष है, और उसके सेविंग अकॉउंट में जमा राशि पर ब्याज 10 हज़ार रूपए से अधिक हो जाता है, तो बैंक द्वारा उस पर 10% टीडीएस काटने का नियम है| इसमें आपके सभी बचत खाते का ब्याज जोड़कर टीडीएस की कटौती की जाती है | लेकिन यदि आपकी वार्षिक आय में उस ब्याज को मिलाकर भी इतनी रकम नहीं बनती है, कि पर टैक्स लिया जा सके, तो आप फार्म 15 G जमा कर TDS कटौती से बच सकते है |

इसी तरह से अगर 60 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्ति के बचत खाते पर यदि सालाना ब्याज 50 हज़ार रूपए से अधिक बनता है, तो उस पर 10% TDS कटेगा | इस ब्याज लिमिट में ग्राहक की FD (Fixed Deposit) या RD (Recurring Deposits) का ब्याज भी शामिल करते है |

अधिक नकदी जमा पर टैक्स विभाग की नजर (Cash Deposits Tax department)

बचत खाते में पैसे रखने की भले ही किसी तरह की सीमा न तय की गयी हो, किन्तु नकदी जमा करने के दौरान अधिक राशि होने पर आय का स्त्रोत अवश्य होना चाहिए | यदि कोई भी सामान्य व्यक्ति अपने खाते में ढाई लाख रूपए से अधिक की राशि जमा करता है, या 60 वर्ष का व्यक्ति 5 लाख से अधिक राशि जमा करता है, तो बैंक द्वारा उसकी सूचना आयकर विभाग को दे दी जाती है| इसी तरह से यदि किसी के खाते में संदिग्ध स्रोतों से राशि आ रही है, तो उसकी जांच भी आयकर विभाग (Income Tax) द्वारा की जाती है |

ICICI Bank Zero Balance Account Opening 

न्यूनतम जमा राशि की सीमा (Minimum Deposit Limit)

आप भारतीय स्टेट बैंक में जाकर एक बार में न्यूनतम 10 रूपए की राशि जमा कर सकते है, इससे कम राशि को जमा नहीं किया जाएगा | किन्तु ऑनलाइन के माध्यम से 1 रूपए भी जमा किया जा सकता है | ऑनलाइन डिपाजिट में आप कितनी बार भी पैसा जमा कर सकते है, इसकी कोई लिमिट नहीं होती है| अन्य बैंको में न्यूनतम जमा राशि कुछ अलग हो सकती है |

न्यूनतम बैलेंस कितना होना चाहिए (Minimum Balance)

सेविंग अकॉउंट में जीरो बैलेंस वाले अकॉउंट को छोड़कर बाकी सभी सामान्य खातों में न्यूनतम बैलेंस रखने की शर्त होती है| इसमें ग्राहक के औसत बैलेंस न रखने पर बैंक द्वारा पेनाल्टी काटी जाती है| भारतीय स्टेट बैंक ने अपने बचत खातों पर औसत बैलेंस रखने की सीमा ख़त्म कर दी है| किन्तु पंजाब नेशनल बैंक के बड़े शहरो की शाखाओ में तिमाही औसत राशि 2000 रूपए रखी गयी है| वही छोटे शहर की शाखाओ के लिए यह सीमा 1 हज़ार रूपए और ग्रामीण शाखाओ में 500 रूपए तिमाही का औसत बैलेंस होना चाहिए |

निजी बैंको में यह औसत राशि ज्यादा होती है, जैसे HDFC बैंक की शहरी शाखाओ में यह न्यूनतम राशि 10 हज़ार रूपए है, तो वही छोटे शहरो की शाखा में 5 हज़ार रूपए रखी गयी है |

सीमा से अधिक राशि जमा करने पर ब्याज दर (Interest Rate on limit Excess Deposits)

बचत खाते में जमा राशि के आधार पर अलग-अलग ब्याज दर मिलती है| पंजाब नेशनल बैंक के बचत खाते में 50 लाख रूपए की राशि होने पर ग्राहक को 3.50% ब्याज मिलता है | यदि जमा राशि 50 लाख से अधिक है, तो ब्याज दर 3.75% मिलेगी | इसी प्रकार देश से सबसे बड़ा निजी बैंक ICICI 50 लाख से कम की जमा राशि पर 3.25 प्रतिशत ब्याज देता है, तथा 50 लाख से अधिक की राशि पर ब्याज दर बढ़कर 3.75 प्रतिशत हो जाती है |

इसके अलावा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक में भी सेविंग अकॉउंट पर जमा राशि के आधार पर ब्याज दिया जाता है, किन्तु अब इसे एक सामान कर दिया गया है |

प्रत्येक माह में कितनी बार पैसे जमा कर सकते है (Deposit Money Each Month)

बचत खाता (Saving Account) में आप एक महीने में कितनी बार पैसा जमा कर सकते है, इसकी सीमा को भी कुछ बैंको ने तय कर दिया है | भारतीय स्टेट बैंक में आपको एक माह में 3 बार ही  बार पैसे जमा करने की सहायता दी जाती है, यदि आप चौथी बार या उसके बाद जितनी भी बार आप पैसे जमा करते है, तो आपको राशि जमा करने पर 50 रूपए का शुल्क लगेगा |

ICICI Bank एक माह में 4 बार निशुल्क राशि जमा करने की अनुमति देता है, इसके बाद प्रति 1000 रूपए पर 5 रूपए का शुल्क लगेगा | इसमें अधिकतम 150 रूपए की कटौती की जा सकती है |

बैंक से पैसे कैसे निकाले